38 बरस पुरानी बीजेपी को कैसे याद करें ?- Punya Prasun Bajpai

Punya Prasun Bajpai

38 बरस पुरानी बीजेपी को कैसे याद करें ?- Punya Prasun Bajpai

सवाल ये नहीं है कि बीजेपी अध्यक्ष को मोदी की बाढ़ तले कुत्ता-बिल्ली, सांप-छछूंदर का एक होना दिखायी दे रहा है । सवाल है कि इंदिरा की तानाशाही तले भी…
स्वामी रामदेव : ये संतों वाला काम है क्या ?

Prabhat Dabral

स्वामी रामदेव : ये संतों वाला काम है क्या ?

अपन कई मामलों में बाबा रामदेव के मुरीद हैं - खासकर उनकी सादगी, भलमनसाहत और खुलेपन के. लेकिन जब व्यापार कर रहे हैं तो इनकम टैक्स तो देना ही चाहिए।…
पूर्वजों के ‘पुण्य’ से प्रसादित ‘प्रसून’ को कोई पाखण्डी कहां झुका पाएगा !

Surya Pratap Singh

पूर्वजों के ‘पुण्य’ से प्रसादित ‘प्रसून’ को कोई पाखण्डी कहां झुका पाएगा !

टीवी पर ‘प्रायोजित’ प्रशंसा के आदी बाबा से ‘टैक्स’ चोरी पर सवाल पूछना पुण्य प्रसून वाजपेयी को इतना महँगा पड़ेगा, उन्होंने कभी सोचा भी न होगा। New Delhi, Mar 12…
दंगल और दस तक के एंकर भी इसी नट-वोल्ट वाले सिद्धांत की एक जीवंत मिसाल हैं

Upendra Chaudhary

दंगल और दस तक के एंकर भी इसी नट-वोल्ट वाले सिद्धांत की एक जीवंत मिसाल हैं

मोदी समर्थक माने जाने वाले किसी एंकर से आजतक में 'दंगल' करवाना और वहां से प्रगतिशील सोच के माने जाने वाले किसी एंकर के दस्तक से दफ़ा होने की ख़बर…
बैंक फ्रॉड : लोकतंत्र ही खामोश है क्योंकि लोकतंत्र का मतलब चुनाव है

Punya Prasun Bajpai

बैंक फ्रॉड : लोकतंत्र ही खामोश है क्योंकि लोकतंत्र का मतलब चुनाव है

बैंकों की उस फेरहिस्त को पढिये कि किस बैंक को कितने का चूना लगा और कर्ज ना लौटाने वाले है कितने। New Delhi, Feb 22 : एसबीआई [2466], बैंक आफ…
नीरव मोदी पर पीएम मोदी के “दो शब्द” बोलने का इंतजार करता देश

Punya Prasun Bajpai

नीरव मोदी पर पीएम मोदी के “दो शब्द” बोलने का इंतजार करता देश

नीरव मोदी ने 11500 करोड़ का चूना लगाया । और इस कडी में एक नाम रोटोमैक्स के विक्रम कोठारी का आया। जिन्होंने 800 करोड का कर्ज लिया । New Delhi,…
सोचिए जब अच्छे पत्रकार – जज – नौकरशाह – प्रोफेसर ना होंगे ?

Punya Prasun Bajpai

सोचिए जब अच्छे पत्रकार – जज – नौकरशाह – प्रोफेसर ना होंगे ?

सवाल सिर्फ भविष्य में पत्रकार खोजने भर का नहीं है बल्कि छात्रों को भी खोजना होगा। जो क्रिटिकल हो । जो सवाल-जवाब कर सकते हो । New Delhi, Feb 18:…
सत्ता का राष्ट्रप्रेम, विपक्ष की राजनीतिक शून्यता, संघ पर अंधेरे के बादल, बीजेपी का भविष्य

Punya Prasun Bajpai

सत्ता का राष्ट्रप्रेम, विपक्ष की राजनीतिक शून्यता, संघ पर अंधेरे के बादल, बीजेपी का भविष्य

संघ को सत्ता के निर्देश पर अगर चलना है तो फिर बीजेपी से पहले संघ ढहेगी । उसकी साख खत्म होगी । उसके सरोकार खत्म होगें New Delhi, Jan 04:…