बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय का एक और वीडियो वायरल, कमलनाथ सरकार में ‘हड़कंप’

वीडियो देखने के लिये नीचे स्क्रॉल करें
पिछले सप्ताह ही इंदौर के एक कार्यक्रम में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि ये सरकार (कमलनाथ सरकार) 5 साल तक चलने वाली नहीं है।

New Delhi, Jan 13 : पूर्व मंत्री और बीजेपी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रहे हैं कि सरकार भले चली गई हो, लेकिन अभी भी शहर में राज उनका है, इतना ही नहीं बीजेपी नेता कह रहे हैं कि किसी माई के लाल में हिम्मत नहीं है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं को हाथ लगा सके। उनका ये वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

बीजेपी कार्यकर्ताओं को कर रहे संबोधित
आपको बता दें कि इस वीडियो में बीजेपी नेता कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे हैं, वो कह रहे हैं कि चिंता करने की जरुरत नहीं है, पहले भी हम विपक्ष में बैठे थे, इसके साथ ही कैलाश विजयवर्गीय ने फिर से एक बार दोहराया कि ये सरकार हमारी कृपा से चल रही है, जिस दिन ऊपर से बॉस का इशारा हो जाएगा…. इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ता भारत माता की जय के नारे लगाने लगे।

पांच साल नहीं चलेगी सरकार
मालूम हो कि पिछले सप्ताह ही इंदौर के एक कार्यक्रम में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि ये सरकार (कमलनाथ सरकार) 5 साल तक चलने वाली नहीं है, जिस दिन ऊपर से सिग्नल मिल गया, 15 दिन के भीतर सरकार को उलटा कर देंगे, आलाकमान ने कह दिया, तो खेल कर देंगे, फिलहाल कांग्रेस को जनादेश मिला है, तो चलाने दो सरकार को।

एमपी में बीजेपी भी है सत्ता के करीब
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में जनता ने जो जनादेश दिया है, उसके अनुसार किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है, 230 विधानसभा वाले एमपी में सरकार के लिये 116 विधायकों की जरुरत है, जबकि कांग्रेस के पास 114 और बीजेपी के पास 109 है, बसपा के दो और सपा के एक विधायक हैं, साथ ही 4 निर्दलीय विधायक भी जीते हैं, फिलहाल कांग्रेस को सपा बसपा ने समर्थन दिया है, जिससे उनकी सरकार चल रही है।

दिग्विजय सिंह का आरोप
हाल ही में कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर आरोप लगाया था कि कांग्रेस विधायकों को बीजेपी पद और पैसे का लालच दे रहे हैं, आपको बता दें कि कुछ कांग्रेस के और निर्दलीय विधायक मंत्री पद नहीं मिलने की वजह से नाराज हैं, जब कमलनाथ सरकार का गठन हुआ था, तो खुलकर नाराजगी सामने आई थी, हालांकि कांग्रेस ने अपने नाराज विधायकों को फिलहाल समझा-बुझाकर मना लिया है।
एमपी विधानसभा –
कुल सीट – 230
बहुमत – 116
कांग्रेस – 114
बीजेपी – 109
बसपा – 02
सपा- 01
अन्य- 04