आजतक न्यूज सर्वे- यूपी में बढी पीएम मोदी की लोकप्रियता, तो मायावती का ग्राफ जा रहा नीचे

अगला सवाल पूछा गया कि यूपी में अगली बार किसी सीएम देखना चाहेंगे, तो सबसे ज्यादा लोगों ने मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ का नाम लिया।

New Delhi, Feb 10 : आम चुनाव से पहले ही राजनीतिक पार्टियों में वोटरों को अपनी ओर गोलबंद करने के लिये तैयारियां शुरु हो चुकी है, विभिन्न संस्थानों द्वारा जनता का मूड जानने के लिये सर्वे भी कराये जा रहे हैं, सर्व से ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है, कि क्या मोदी सरकार रिपीट होगी, या जनता बदलाव चाहती हैं, ऐसा ही एक सर्वे इंडिया टुडे और एक्सिस माई टुडे द्वारा यूपी में किया गया है।

मोदी पहली पसंद
इस सर्वे के मुताबिक यूपी की 52 फीसदी जनता फिर से मोदी को पीएम के रुप में देखना चाहती हैं, इसके साथ ही ये भी दावा किया जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की लोकप्रियता में भी इजाफा हुआ है, लेकिन दूसरी ओर प्रदेश की पूर्व सीएम मायावती की लोकप्रियता का ग्राफ नीचे आया है।

कब किया गया सर्वे
आजतक न्यूज चैनल के रिपोर्ट के अनुसार ये सर्वे यूपी के 80 लोकसभा सीटों पर किया गया है, 8842 इसका सैम्पल साइज है, सर्वे 29 जनवरी से 6 फरवरी के बीच किया गया, इसमें पीएम मोदी की लोकप्रियता को लेकर सवाल पूछा गया, दिसंबर 2018 में पीएम 51 फीसदी लोगों की पहली पसंद थे, फरवरी 2019 में उनकी लोकप्रियता बढकर 52 फीसदी हो गई, राहुल गांधी को दिसंबर 2018 में 26 फीसदी लोगों ने अपनी पसंद बताया था, फरवरी में ये 31 फीसदी हो गया, मायावती को दिसंबर में 11 फीसदी लोगों ने पहली पसंद कहा था, जो अब 8 फीसदी हो गया है।

काम काज से संतुष्ट
इस सर्वे के मुताबिक केन्द्र सरकार के कामकाज से सितंबर 2018 में 53 फीसदी लोग संतुष्ट थे, जो फरवरी 2019 में बढकर 54 फीसदी हो गई है, हालांकि असंतुष्टों की संख्या सितंबर में 28 फीसदी थी, जो अब बढकर 32 फीसदी हो गई है, ठीक ठाक मानने वाले की संख्या 16 से घटकर 11 हो गई है।

यूपी में अगला सीएम
अगला सवाल पूछा गया कि यूपी में अगली बार किसी सीएम देखना चाहेंगे, तो सबसे ज्यादा लोगों ने मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ का नाम लिया, दिसंबर 2018 में ये 38 फीसदी थी, फरवरी में ये 39 फीसदी हो गया, दिसंबर में 37 फीसदी लोग दुबारा अखिलेश को सीएम पद पर देखना चाहते थे, जो फरवरी में घटकर 33 फीसदी हो गया, मायावती यहां भी कमजोर हुई है, 15 से घटकर 14 फीसदी हो गई है।