यूएन में मसूद पर चीन का रुख, अमेरिका ने चेताया, चौथी बार डाला है अड़ंगा अब खैर नहीं

”एक तरफ चीन दक्षिण एशिया में शांति की बात करता है और दूसरी ओर मसूद को बचाता है, ऐसा कर चीन खुद ही आतंकवाद के सफाए में बाधा बन रहा है ।”

New Delhi, Mar 14 : मसूद अजहर एक बार फिर बच गया, वैश्विक मंच पर चौथी बार मसूद अजहर को ग्‍लोबल आतंकी घोषित किए जाने का प्रस्‍ताव भेजा गया, और चौथी बार चीन ने अपनी ताकत का इस्‍तेमाल कर आतंकी को बचा लिया । चीन के इस रवैये से अमेरिका खासा नाराज है । अमेरिका ने चीन को सीधी चेतावनी दी है कि चीन अगर यूएन काउंसिल को काम नहीं करने देगा तो उसके खिलाफ सख्‍त एक्‍शन लिया जाएगा ।

भारत ने सौंपा था डोजियर
जैश एक मोहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर के खिलाफ भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सदस्यों  को एक पूरा डोजियर सौंपा था । भारत ने इस साल आई मसूद की रिकॉर्डिंग भी सौंपी थी । लेकिन चीन ने वीटो पावर का इस्‍तेमाल कर जैश सरगना को एक बार फिर बचा लिया । चीन का कहना है कि मसूद के खिलाफ कोई सुबूत नहीं हैं कि वो और आतंकी संगठन जैश एक दूसरे से जुड़े हुए हैं । वहीं दूसरी तरफ भारत बार-बार ये कह रहा है कि मसूद जैसे आतंकी पर कार्रवाई सख्‍त जरूरी है ।

अमेरिका की चेतावनी
चीनी अड़ंगे से तिलमिलाए अमेरिका ने चीन को चेतावनी दी है । अमेरिका ने साफ और कड़े शब्दों में कहा है, ”एक तरफ चीन दक्षिण एशिया में शांति की बात करता है और दूसरी ओर मसूद को बचाता है, ऐसा कर चीन खुद ही आतंकवाद के सफाए में बाधा बन रहा है । चीन को पाकिस्तान या किसी देश की धरती पर आतंकवाद को पलने नहीं देना चाहिए । अमेरिका ने चेतावनी देते हुए कहा कि चीन अगर मसूद पर कार्रवाई में बाधा बनता रहा तो सुरक्षा परिषद में उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है ।”

प्रस्‍ताव पर टेक्निकल होल्‍ड
आपको बता दें ये चौथा बार था जब भारत ने पूरी तैयारी के साथ मसूद अजहर के खिलाफ डोजियर यूएन में पेश किया था और चौथी बार चीन ने इसमें रोड़ा अटकाया । ऐसा करके चीन लगतार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को उसका काम करने से रोक रहा है । चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर उसने टेक्नीनल होल्ड लगा दिया है । चीन ने एक बार फिर साबित किया है कि वो आतंकी देश पाकिस्‍तान का सरमाया है, तभी तो आतंकियों की सुरक्षा विश्‍व शांति से ज्‍यादा जरूरी है ।