आजम खान के ये कैसे बोल, कुमार विश्‍वास से लेकर एंकर सुशांत सिन्‍हा और रोहित सरदाना ने भी ली खबर

देखते जाइए…..अभी गर्त के आसमाँ और भी हैं । कुमार विश्‍वास ने इसके बाद कुछ और ट्वीट भी किए जिसमें आजम सरीखे नेताओं की बोली का जिक्र किया गया है । वाकई राजन‍ीति का गिरता स्‍तर लोकतंत्र के लिए शर्म से कम नहीं ।

New Delhi, Apr 15 : आज़म खान का विवादित बयान राजनीतिक गलियारों में पारा बढ़ाए हुए हैं ।  मंच पर खड़े होकर एक महिला के बारे में ऐसी अशोभनीय बातें कहना किसको हजम हो सकती हैं । हैरानी इस बात की कि उस मंच पर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी मौजूद थे । विपक्षी दल तो इस बयान का विरोध कर रही रहे हैं, कांग्रेस ने भी इस बयान को बेहद शर्मनाक बताया है । पार्टी द्वारा आजम खान पर कड़ी कार्रवाई की मांग की जा रही है । मामले में कुमार विश्‍वास और कुछ वरिष्‍ठ पत्रकारों ने भी ट्वीट किए हैं ।

कुमार विश्‍वास का ट्वीट
कविराज कुमार विश्‍वास ने आजम खान के इस बयान की अपने ही शब्‍दों में निंदा की है । कुमार ने ट्वीट करते हुए कहा – कोई दल/नेता राष्ट्रनिर्माण की इस बेला में पीछे क्यूँ छूटे भला ? लोकतंत्र अपने चरमोत्कर्ष तक पहुँचता हुआ ! देखते जाइए…..अभी गर्त के आसमाँ और भी हैं । कुमार विश्‍वास ने इसके बाद कुछ और ट्वीट भी किए जिसमें आजम सरीखे नेताओं की बोली का जिक्र किया गया है । वाकई राजन‍ीति का गिरता स्‍तर लोकतंत्र के लिए शर्म से कम नहीं ।

एंकर सुशांत सिन्‍हा का ट्वीट
वहीं एंकर सुशांत सिन्‍हा ने ट्वीट करते हुए लिखा है – आज़म खान मंच पर खड़े होकर एक महिला के अंडरवेयर का रंग बता रहे हैं, उसी मंच पर अखिलेश जी भी हैं लेकिन उनसे कुछ नहीं कहा गया। सामने खड़ी जनता सुनकर खुश हो रही थी सो अलग। सिर शर्म से झुक जाता है कि जिसे दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बताते हैं वहां ऐसे ऐसे नेता भी हैं।

रोहित सरदाना का ट्वीट
वहीं रोहित सरदाना ने इस बयान का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा है – आज़म ख़ां के बयान पर ना महिला अधिकारवादियों को ठेस लगी, ना राजनीति में कथित शुचिता के ठेकेदारों को? शर्म की बात है! वाकई ये शर्म की बात है कि इस लोकतंत्र में ऐसे बयान देने वाले, महिलाओं के लिए ऐसी सोच रखने वाले चुनाव लड़ने के हकदार हैं । मामले में सियासी गलियारों से लेकर सामाजिक स्‍तर पर काम कर रहे लोग भी तीखी प्रतिक्रिया दे रहे हैं । लेकिन आजम खान के मुताबिक तो उन्‍होने कुछ गलत कहा ही नहीं है, बस उनके बयान को तोड़ मरोड़कर पेश कर दिया गया है ।