गोडसे को ‘देशभक्‍त’ कहना पड़ा महंगा, साध्‍वी प्रज्ञा, अनंत हेगड़े, कटील पर अमित शाह का कड़ा एक्शन

बीजेपी के कुछ नेता पिछले दिनों गोडसे को देशभक्‍त कहने से भी नहीं चुके, बहती गंगा में हाथ धोने की ये कोशिश इन नेताओं को अब भारी पड़ती नजर आ रही है । अमित शाह ने इनके बयानों को निजी बयान बताया है ।

New Delhi, May 17 : नाथूराम गोडसे पर कमल हासन के बयान के बाद से पूरे देश में राजनीति का ये एक अहम मुद्दा बन गया और नेता अपने – अपनी तरह से इस बयान की चीर फाड़ पर उतारू हो गए । कुछ बीजेपी नेताओं ने महात्‍मा गांधी के हत्‍यारे को देशभक्‍त तक बता दिया । इन बयानों ने बीजेपी की छवि को भी नुकसान पहुंचाया । गोडसे को देशभक्‍त बताने वालों में साध्‍वी प्रज्ञा सबसे आगे रहीं । पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह ने प्रज्ञा समेत बीजेपी के अन्‍य नेताओं पर भी कड़ी प्रतिक्रिया दी है और बयान से किनारा किया है ।

अमित शाह का बयान
भारतीय जनता पार्टी के राष्‍अ्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने साध्‍वी प्रज्ञा के बयान से पला झाड़ लिया है । उन्‍होने कहा कि ऐसे बयान से पार्टी का कोई लेना-देना नही, ये इन नेताओं के निजी बयान है । पार्टी इन बयानों का समर्थन नहीं करती है । अमित शाह ने कहा कि साध्‍वी प्रज्ञा, अनंत हेगड़े और नलिन ने अपने बयान वापस ले लिए हैं और माफी भी मांगी है । लेकिन पार्टी की अनुशासन समिति इन तीनों नेताओं से जवाब मांगेगी और 10 दिन के भीतर पार्टी को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी ।

अनंत हेगड़े ने दी थी सफाई
कर्नाटक में बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता अनंत हेगड़े ने साध्‍वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान का समर्थन देने के मामले में सफाई दी है । उन्‍होने कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था । हेगड़े ने कहा कि महात्‍मा गांधी की हत्‍या को न्‍यायोचित ठहराने का कोई औचित्‍य ही नहीं बनता । उनकी हत्‍या पर कोई सहानुभूति नहीं हो सकती या उसको न्‍यायसंगत नहीं ठहराया जा सकता । हम सभी महात्‍मा गांधी के राष्‍ट्र को दिए योगदान का सम्‍मान करते हैं । दरअसल इससे पहले उनके दो ट्वीट खबरों में आए थे, जिसमें उन्‍होने साध्‍वी प्रज्ञा के बयान का समर्थन किया था ।

साध्‍वी प्रज्ञा ने मांगी माफी
आपको बता दें भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी उममीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी केहत्यारे को ‘देशभक्त’ बताकर विवाद खड़ा कर दिया था । साध्‍वी के बयान पर विपक्ष हमलावर हो गया । कांग्रेस ने आरोप लगाया कि  “शहीदों का अपनाम करना भाजपा के डीएनए में है।’’ हालांकि बयान को लेकर भाजपा के प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्‍हा ने इस बयान को साध्‍वी का निजी बयान बताकर पार्टी का पल्‍ला झाड़ लिया था ।

वीडियो जारी कर मांगी माफी
साध्‍वी प्रज्ञा ने एक वीडियो जारी कर बयान के लिए माफी मांगी । प्रज्ञा ने कहा – ‘‘मेरा बयान किसी की भावनाओं को आहत करने के लिए नहीं था । अगर इससे किसी की भावनाएं आहत हुई हैं तो मैं क्षमा मांगती हूं । गांधीजी ने देश के लिए जो किया, उसे भुलाया नहीं जा सकता । मैं उनका बहुत सम्मान करती हूं।’’ प्रज्ञा ठाकुर को अब भाजपा की अनुशासन समिति को भी जवाब देना होगा ।