इंजीनियरिंग कर नौकरी तलाश रही थी ये लड़की, अब सांसद बन रच दिया इतिहास, राजनीतिक परिवार से नहीं है ताल्लुक

25 साल 11 महीने की सांसद चंद्राणी मुर्मू ने लोकसभा में इतिहास रच दिया हैं, 17वीं लोकसभा में उन्होने बीजेपी प्रत्याशी अनंत नायक को करीब 68 हजार वोटों से हराया।

New Delhi, May 27 : लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी ने प्रचंड जीत हासिल की है, इस बार 78 महिलाएं संसद पहुंची हैं, जो अब तक की सबसे ज्यादा संख्या है, ओडिशा से इस बार सबसे ज्यादा 33 फीसदी महिला सांसद संसद पहुंची है, इतना ही नहीं ओडिशा ने इस बार सबसे कम उम्र की महिला सांसद भी लोकसभा भेजा है, जिनकी खूब चर्चा हो रही है।

कौन है ये महिला सांसद
जी हां, ओडिशा से जीतकर संसद पहुंचने वाली देश की सबसे कम उम्र की महिला सांसद का नाम चंद्राणी मुर्मू है, 25 वर्षीय चंद्राणी ने इंजीनियरिंग की पढाई की हैं, वो बीजू जनता दल (बीजेडी) के टिकट पर क्योंझर लोकसभा सीट (आरक्षित) से चुनावी मैदान में थी, और जीतकर अब संसद पहुंची है।

दो बार के सांसद को दी मात
25 साल 11 महीने की चंद्राणी मुर्मू ने लोकसभा में इतिहास रच दिया हैं, 17वीं लोकसभा में उन्होने बीजेपी प्रत्याशी अनंत नायक को करीब 68 हजार वोटों से हराया, आपको बता दें कि अनंत नायक दो बार के सांसद हैं, जबकि चंद्राणी पहली बार चुनाव लड़ रही थी।

नौकरी ढूंढ रही थी
चंद्राणी कुछ महीने पहले तक किसी सामान्य लड़की की तरह बीटेक करने के बाद नौकरी ढूंढ रही थी, इसके साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही थी, चंद्राणी ने बताया कि 31 मार्च को अचानक उनके मामा का फोन आया, उन्होने पूछा कि क्या वो चुनाव लड़ना चाहेगी, तो इस पर चंद्राणी ने हां कह दिया, नवनिर्वाचिक सांसद ने बताया कि मैं इंजीनियरिंग पूरा कर नौकरी ढूंढ रही थी, मैंने कभी नहीं सोचा था, कि मैं राजनीति करुंगी, या सांसद बनूंगी।

नवीन पटनायक मिलना चाहते हैं
चंद्राणी ने बताया कि उसके अगले ही दिन मामा का फोन आया, कि सीएम नवीन पटनायक मिलना चाहते हैं, हालांकि तब भी मुझे टिकट की कोई आस नहीं थी, मुलाकात के अगले दिन 2 अप्रैल को मेरा नाम टिकट के लिये घोषित कर दिया गया, चंद्राणी ने बताया कि चुनाव प्रचार के दौरान ही पहली बार वो हेलीकॉप्टर में बैठी, चंद्राणी के नाना कांग्रेस से सांसद रह चुके हैं, हालांकि उनका अपना परिवार राजनीति में सक्रिय नहीं है।