लोकसभा के बाद विधानसभा की जंग शुरु, अगले 8 महीनों में यहां होने हैं  चुनाव, बीजेपी के लिये सबसे बड़ी चुनौती

तीन राज्यों में बीजेपी का सरकार है, और दिल्ली में आम आदमी पार्टी सत्ता में है, इन राज्यों में सत्ता हासिल करने के लिये राजनीतिक पार्टियों ने तैयारी शुरु कर दी है।

New Delhi, Jun 04 : लोकसभा चुनाव संपन्न हो चुका है, देश में नई सरकार बन चुकी हैं, लेकिन अगले आठ महीने में चार राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, जो राजनीतिक रुप से काफी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं, जिसमें दिल्ली, हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र है, तीन राज्यों में बीजेपी का सरकार है, और दिल्ली में आम आदमी पार्टी सत्ता में है, इन राज्यों में सत्ता हासिल करने के लिये राजनीतिक पार्टियों ने तैयारी शुरु कर दी है।

हरियाणा
हरियाणा में बीजेपी ने 2014 में बिना चेहरे के चुनाव लड़ा था, बाद में मनोहर लाल खट्टर को मुख्यमंत्री बनाया गया, शुरुआत में बीजेपी के भीतर और बाहर भी खट्टर को नौसिखिया कहा जाता था, लेकिन निकाय चुनाव में शानदार प्रदर्शन कर खट्टर ने सबकी बोलती बंद कर दी, इस बार लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी ने हरियाणा में क्लीन स्वीप किया है, जिसके बाद माना जा रहा है कि इस बार विधानसभा का चुनाव भी खट्टर के चेहरे पर लड़ा जाएगा।

दिल्ली
दिल्ली में केजरीवाल की सरकार है, यहां अगले साल फरवरी में चुनाव होने हैं, 2015 में दिल्ली में आप ने 70 में से 67 सीटें जीती थी, लेकिन हाल के लोकसभा चुनाव में स्थिति कुछ और ही दिखी, सात में पांच सीटों पर आप तीसरे नंबर पर थी, कांग्रेस का ग्राफ दिल्ली में तेजी से बढ रहा है, जिसका फायदा बीजेपी को हो रहा है, हालांकि बीते दिन ही केजरीवाल ने ट्रंप कार्ड चलते हुए दिल्ली में महिलाओं को मुफ्त यात्रा का ऐलान किया है, जिसके बाद कहा जा रहा है कि आप को महिलाओं का वोट मिल सकता है।

महाराष्ट्र
महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार है, यहां इसी साल सितंबर-अक्टूबर में चुनाव होने हैं, 288 सीटों वाले प्रदेश में बीजेपी के पास 122 सीटें हैं, उनकी सहयोगी शिवसेना के पास 63 सीटें है, ना-नुकुर करते-करते लोकसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना साथ मिलकर चुनाव लड़ी, जिसमें बीजेपी 23 और शिवसेना ने 18 सीटें जीती, एनसीपी चार और कांग्रेस एक सीट पर सिमट गई, लोकसभा चुनाव की हार की निराशा में घिरी कांग्रेस के लिये चुनाव की डगर काफी कठिन दिख रही है।

झारखंड
झारखंड में बीजेपी का शासन है, रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं, 82 विधानसभा सीटों वाले इस प्रदेश में 81सीटों पर चुनाव होता है, एक सदस्य को नामित किया जाता है, 2014 में बीजेपी को 37 सीटें मिली थी, आजसू को मिलाकर बहुमत मिला था, बाद में झारखंड विकास मोर्चा के 6 विधायक भी बीजेपी में आ गये, जिससे सरकार की चिंता खत्म हो गई, हाल में हुए लोकसभा चुनाव में 14 सीटों में बीजेपी ने 11 जीते हैं, जिससे पार्टी के हौंसले बुलंद हैं, इस बार बीजेपी झारखंड में 60 प्लस का नारा दे रही है।