बेटे संदीप दीक्षित ने तोड़ी चुप्पी, बताया कौन है शीला दीक्षित का ‘कातिल’, दिल्ली की सियासत में भूकंप

पूर्व सीएम शीला दीक्षित के निधन के करीब ढाई महीने बाद उनकी मौत के कारण ने कांग्रेस की अंदरुनी गुटबाजी को आर-पार की लड़ाई बना दिया है।

New Delhi, Oct 12 : दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 की तैयारियों में जुटी अध्यक्ष विहीन दिल्ली कांग्रेस में अंतरकलह सतह पर आ चुकी है, दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको को कानूनी नोटिस भेजकर उन्हें अपनी मां की मौत का जिम्मेदार बताया है, संदीप दीक्षित का आरोप है कि चाको के मानसिक उत्पीड़न की वजह से ही उनकी मां का निधन हुआ है।

कानूनी नोटिस भेजा
पूर्व सीएम शीला दीक्षित के निधन के करीब ढाई महीने बाद उनकी मौत के कारण ने कांग्रेस की अंदरुनी गुटबाजी को आर-पार की लड़ाई बना दिया है, संदीप ने अपने नोटिस में कहा है कि शीला दीक्षित को दिये गये मानसिक उत्पीड़न के लिये पीसी चाको माफी मांगे या फिर कानूनी कार्रवाई के लिये तैयार रहें।

शीला दीक्षित ने सोनिया गांधी को लिखा था खत
आपको बता दें कि शीला दीक्षित ने मौत से पहले कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कथित रुप से एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होने पार्टी के भीतर चल रही अंदरुनी गुटबाजी पर दुख जाहिर करते हुए परेशानी बताई थी, हालांकि उस कथित पत्र को सार्वजनिक नहीं किया गया।

कांग्रेस को कमजोर करने की साजिश
शीला दीक्षित ने आरोप लगाया था कि प्रभारी पीसी चाको किसी वरिष्ठ नेता के इशारे पर कांग्रेस को कमजोर करने की साजिश रच रहे हैं, शीला दीक्षित के आखिरी दिनों में उनके मानसिक तौर पर परेशान रहने का बीत बेटे संदीप दीक्षित ने सार्वजनिक तौर पर कही थी, संदीप ने कहा था कि पार्टी के कुछ लोग ओछी हरकतें कर रहे हैं, जिससे नुकसान भी हुआ।