महाराष्ट्र- उद्धव ठाकरे सरकार ने साबित किया बहुमत, समर्थन में पड़े इतने वोट, बीजेपी ने किया बहिष्कार

फ्लोर टेस्ट के वोटिंग से पहले सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर हंगामा और नारेबाजी हुई।

New Delhi, Nov 30 : महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार ने बहुमत साबित कर दिया है, शनिवार दोपहर ढाई बजे विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर दिलीप वल्से पाटिल की मौजूदगी में फ्लोर टेस्ट करवाया गया, जिसमें सरकार के पक्ष में 169 वोट पड़े, वहीं सदन में मौजूद अन्य दलों (एमएनएस, एआईएमआईएम और सीपीआई) के चार विधायक वोटिंग के खिलाफ तटस्थ रहे, यानी उन्होने ना तो सरकार के पक्ष में वोटिंग की और ना ही विरोध में वोट डाला।

हंगामा और नारेबाजी
फ्लोर टेस्ट के वोटिंग से पहले सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर हंगामा और नारेबाजी हुई, पूर्व सीएम और बीजेपी विधायक देवेन्द्र फडण्वीस ने अपने संबोधन में कहा कि नया प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति गलत हुई है, इस पर प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किये गये दिलीप पाटिल ने कहा कि गवर्नर के आदेश के बाद ही प्रोटेम स्पीकर बदला गया है, भारी हंगामे के बीच अशोक चव्हाण ने सदन में विश्वास मत पेश किया, जिसे एनसीपी के नवाब मलिक और शिवसेना के सुनील प्रभु ने अनुमोदित किया, इसके बाद बीजेपी के सभी विधायक नारेबाजी करते हुए सदन से बाहर चले गये, उन्होने फ्लोर टेस्ट का बहिष्कार किया।

शिवाजी मैदान में शपथ
इससे पहले बीते गुरुवार को मुंबई के शिवाजी मैदान में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सीएम पद की शपथ ली थी, इस दौरान शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के दो-दो विधायकों ने भी मंत्री पद का शपथ लिया था, हालांकि उद्धव सरकार में डिप्टी सीएम कौन होगा, इसे लेकर अभी तक सस्पेंस बरकरार है, एनसीपी और कांग्रेस दोनों इसे लेकर अपने-अपने दावे कर रहे हैं।

बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी
बीते महीने 24 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आये थे, जिसमें बीजेपी 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, वहीं उसकी सहयोगी शिवसेना को 56 सीटें मिली थी, एनसीपी 54 और कांग्रेस ने 44 सीटों पर कब्जा जमाया, इसके बाद शिवसेना-बीजेपी के बीच सीएम पद और 50-50 फॉर्मूले को लेकर फूट पड़ गई, जिसके बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस से गठबंधन किया है।