‘40 हजार करोड़’ पर मचा हंगामा, राउत ने बताया ‘गद्दारी’ तो वहीं फडणवीस का आया ये जवाब, Video

महाराष्‍ट्र में 80 घंटे की फडणवीस सरकार को लेकर अनंत हेगड़े के बयान से हंगामा मच गया है । शिवसेना ने जहां इस बयान के बाद तीखी प्रतिक्रिया दी है वहीं खुद फडणवीस ने सफाई दी है ।

New Delhi, Dec 02: महाराष्‍ट्र में बीजेपी ने 80 घंटे की सरकार बनाकर जनता को भी पशोपेश में डाल दिया कि जब उसके पास बहुमत ही नहीं था तो ऐसा क्‍यों किया गया । कयों बीजेपी ने अजीत पवार के समर्थन के दावे की जांच पड़ताल । क्‍यों इतनी जल्‍दबाजी में सरकार बनाने का निर्णय ले लिया गया । हालांकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फडणवीस सरकार उतनी ही जल्‍दी सिमट भी गई जितनी जल्‍दी ये बनी थी । बहरहाल मामले में अनंत हेगड़े के बयान ने तूफान मचाया हुआ है । 40 हजार करोड़ के लिए सरकार बनाने की बात कहकर हेगड़े ने महाराष्‍ट्र में राजनीति को गर्मा दिया है । मामले में अब शिवसेना की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई है ।

महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है: राउत
शिवसेना के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता संजय राउत ने ट्वीट कर इस बयान को लेकर कहा है कि ये राज्‍य की जनता के साथ गद्दारी है । राउत ने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस 80 घंटे के मुख्यमंत्री इसलिए बने ताकि केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये को महाराष्ट्र से वापस भेज सकें। यह महाराष्ट्र के साथ धोखा है। यह महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है।’

झूठे हैं सभी आरोप : फडणवीस
वहीं अनंत हेगड़े के बयान पर सफाई देते हुए खुद पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा –  ‘मुख्यमंत्री के तौर पर मेरे द्वारा कोई बड़ा नीतिगत निर्णय नहीं लिया गया। इस तरह के सभी आरोप झूठे हैं।’ आपको बता दें कर्नाटक की उत्तर कन्नड़ लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े का दावा है कि बीजेपी ने 40 हजार करोड़ रुपये का फंड बचाने के लिए फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाकर ड्रामा किया।

हेगड़े का दावा
अनंत हेगड़े ने कहा – आप सभी इस बात को जानते हैं कि महाराष्ट्र में हमारा आदमी 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बना और फिर उसने इस्तीफा दे दिया। हेगड़े ने आगे कहा – मुख्यमंत्री के पास केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये थे। यदि कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना सत्ता में आते तो वे 40 हजार करोड़ रुपये का दुरुपयोग करते। यही वजह है कि केंद्र सरकार के इस पैसे को विकास के कार्यों में इस्तेमाल किया जा सके, इसके लिए यह ड्रामा किया गया। हेगड़े ने ये भी कहा कि भाजपा की यह योजना बहुत पहले से थी। इसी कारण यह तय किया गया कि एक नाटक होना चाहिए।