उत्‍तराखंड की बेटी वंदना कटारिया ने रचा इतिहास, 125 साल में पहली बार ओलंपिक में किया ऐसा कारनामा

भारतीय हॉकी टीम में शामिल उत्तराखण्ड की बेटी वंदना कटारिया ने टोक्‍यो ओलंपिक में इतिहास रच दिया है। वंदना से पहले ये कारनामा किसी भारतीय महिला खिलाड़ी ने नहीं किया ।

New Delhi, Jul 31: टोक्‍यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम ने करो या मरो के मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 4-3 से हरा दिया है । भारत की ओर से खेल रहीं वंदना कटारिया ने तीन और नेहा गोयल ने एक गोल दागा । वंदना कटारिया ऐसा कर पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई है, जिन्होंने ओलंपिक के किसी मैच में हैट्रिक जमाया हो । वंदना, उत्‍तराखंड मूल की हैं और उनकी इस समय जमकर चर्चा हो रही है ।

Advertisement

37 साल बाद लगी हैट्रिक
ओवरऑल ओलंपिक प्रदर्शन की बात करें तो 1984 के बाद किसी vandana kataria (4)भारतीय ने पहली बार ओलंपिक में हैट्रिक लगाई है । इससे पहले आखिरी बार 1984 के ओलंपिक में पुरुष हॉकी खिलाड़ी विनीत शर्मा ने हैट्रिक लगाई थी । शर्मा ने तब मलेशिया के खिलाफ मुकाबले में यह उपलब्धि हासिल की थी । वह हॉकी मैच भारत ने 3-1 से जीता था। टोक्‍यों ओलंपिक में वंदना कटारिया की ये हैट्रिक भारतीय हॉकी की ओवरऑल  32वीं हैट्रिक है। 32 में से 7 हैट्रिक मेजर ध्यानचंद के नाम हैं।

Advertisement

https://twitter.com/ESPNIndia/status/1421339532243263491

Advertisement

वंदना कटारिया की हैट्रिक
इंडियन हॉकी टीम की स्ट्राइकर वंदना कटारिया की इस ऐतिहासिक हैट्रिक के दम पर भारत ने ‘करो या मरो’ के मुकाबले में निचली रैंकिंग वाली दक्षिण अफ्रीका टीम को 4-3 से हराकर टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर vandana kataria (2)फाइनल में प्रवेश की उम्मीदें बरकरार रखी हैं। कटारिया ने चौथे, 17वें और 49वें मिनट में गोल किया। वहीं नेहा गोयल ने 32वें मिनट में एक गोल दागा। भारत ने ग्रुप चरण में पहले तीन मैच हारने के बाद आखिरी दो मैचों में जीत दर्ज की।

Advertisement

अगला मैच जीतना ही होगा
इंडियन टीम के लिए अगला मैच भी करो या मरो वाला होगा, वहीं दुआ करनी होगी कि ब्रिटेन ग्रुप ए के आखिरी पूल मैच में आयरलैंड को हरा दे या फिर ये मैच ड्रॉ हो जाए । तभी भारतीय टीम को आगे मौका मिलेगा । हर पूल से शीर्ष चार टीमें नॉकआउट चरण खेलेंगी। भारत को कंपटीशन में बने रहने के लिए हर हाल में यह मैच जीतना था ।

Advertisement