कैसे पहचानें कि जो नेता आज लोकतांत्रिक दिख रहा है वो कल का तानाशाह है?

Nitin Thakur

कैसे पहचानें कि जो नेता आज लोकतांत्रिक दिख रहा है वो कल का तानाशाह है?

मैं यहां पर उस किताब में बताए चार लक्षण लिखने जा रहा हूं. ये दुनिया के किसी भी देश में लागू हो सकते हैं, किसी भी दल के किसी भी…
लेखकों का काम समाज को दिशा दिखाने का है, राजनीति की गोद में बैठ कर गालियां सुनने का नहीं

Dayanand Pandey

लेखकों का काम समाज को दिशा दिखाने का है, राजनीति की गोद में बैठ कर गालियां सुनने का नहीं

हमारे लेखकों ने अपने कबीर को सोने के अंडे देने वाली मुर्गी की तरह अपने लालच , स्वार्थ और दंभ में मार डाला है । New Delhi, May 10 :…
राजनीति को लेकर रजनीकांत ने खोले पत्‍ते, बताया पॉलिटिकल प्‍लान, बड़ा बदलाव  

IndiaSpeaks

राजनीति को लेकर रजनीकांत ने खोले पत्‍ते, बताया पॉलिटिकल प्‍लान, बड़ा बदलाव  

सुपरस्टार रजनीकांत के राजनीति में आने की अटकलें पहले से ही लग रहीं थीं अब उन्‍होने अपने सारे पत्‍ते खोल दिए हैं, बताया है कि वो कैसे राजनीतिक दल की…
राजनीति को अपराधमुक्त करने की कोशिश क्यों नहीं होती?

Pravin Bagi

राजनीति को अपराधमुक्त करने की कोशिश क्यों नहीं होती?

बीते चार आम चुनाव में राजनीति का आपराधिकरण तेजी से बढ़ा है। अभी लोकसभा के 542 सांसदों में से 233 यानि 43 फीसदी के खिलाफ आपराधिक मुकदमे लंबित हैं। New…
राजनीति को करें अपराधमुक्त

Ved Pratap Vaidik

राजनीति को करें अपराधमुक्त

जरा, यह सोचिए कि जिस देश की संसद में लगभग आधे सदस्य ऐसे हों, जिन पर अपराधों के आरोप हों और उन पर मुकदमे चल रहे हों वह संसद किस…
Opinion – राजनीति केवल तृष्णा ही नहीं, त्याग भी है

Abhiranjan Kumar

Opinion – राजनीति केवल तृष्णा ही नहीं, त्याग भी है

महाराष्ट्र में कर्नाटक का नाटक दुहरा कर आपको क्या मिला? सिद्धांत भी गया और सत्ता भी न मिली। तीन पार्टियों के बेमेल गठबंधन के हश्र को लेकर अगर आप इतने…
Opinion: राजनीति एक अबूझ पहेली है।

Abhiranjan Kumar

Opinion: राजनीति एक अबूझ पहेली है।

देवेंद्र फडणवीस की जगह किसी और को मुख्यमंत्री बनाने से शिवसेना 50-50 की हठ छोड़ सकती थी? क्या शिवसेना के साथ गठबंधन में बराबरी का व्यवहार नहीं हुआ, इसलिए उसने…
Opinion- कितना भी सेक्यूलर होने का ढोंग कर लें, राजनीतिक पर धर्म का  हमेशा से गहरा प्रभाव रहा है

Dayanand Pandey

Opinion- कितना भी सेक्यूलर होने का ढोंग कर लें, राजनीतिक पर धर्म का हमेशा से गहरा प्रभाव रहा है

लोग और भारत का संविधान झूठ ही कहते हैं कि भारत एक सेक्यूलर देश है । सच यह है कि भारत जातियों और धर्मों में बंटा हुआ देश है ।…
खूबसूरत सांसद नुसरत जहां ने बताया ‘एक्टिंग छोड़कर राजनीति में इसलिए आई हूं’

IndiaSpeaks

खूबसूरत सांसद नुसरत जहां ने बताया ‘एक्टिंग छोड़कर राजनीति में इसलिए आई हूं’

वह खुद को नेता कहलाने से ज्यादा जनता का प्रतिनिधि कहलाना पसंद करती हैं । उन्हें लगता है कि वह बस एक मामूली इंसान हैं जो लोगों की बात संसद…
‘बीड़ू, ये इंडिया नही है वरना फोटो छपता कि पुलिस के राइफल के कुंदे से तुम्हारा चेहरा कैसे लहूलुहान है’

Yogesh Kislay

‘बीड़ू, ये इंडिया नही है वरना फोटो छपता कि पुलिस के राइफल के कुंदे से तुम्हारा चेहरा कैसे लहूलुहान है’

 एक बात तो तय है कि हमने राजनीति को माध्यम नही बनाया बल्कि उसे सर्वोच्च पवित्र और सरशक्तिमान मान बैठे । राजनीतिज्ञों को हमने विधाता मान लिया । इसलिए हमें…
Opinion – हाॅकी, मेजर ध्यानचंद और राजनीति

Surendra Kishore

Opinion – हाॅकी, मेजर ध्यानचंद और राजनीति

ध्यानचंद कहते थे इस देश के खिलाडि़यों में नहीं, बल्कि चयनकर्ताओं में प्रतिभा की कमी है। New Delhi, Aug 29 : कभी हाॅकी के अंतरराष्ट्रीय मैचों में भारत की धूम…