एनडीए में नॉट ऑल इज वेल, जदयू के बाद शिवसेना ने दिखाई आंख, कर रहे ये बड़ी मांग

शिवसेना के फॉर्मूले से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह सहमत नहीं हैं, सूत्रों का दावा है कि अमित शाह ने शिवसेना से कहा था कि दोनों पार्टियों में बराबर जिम्मेदारियां बांटी जाएगी।

New Delhi, Jun 12 : एनडीए में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है, जदयू के बाद अब बीजेपी की दूसरी सहयोगी पार्टी शिवसेना भी आंख दिखाने लगी है, सूत्रों का दावा है कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और बीजेपी में मनमुटाव शुरु हो चुका है, प्रदेश में इसी साल सितंबर अक्टूबर में विधानसभा चुनाव होने हैं, दोनों पार्टियां अपना-अपना मुख्यमंत्री चाहती है, हालांकि बीच का रास्ता निकालने के लिये शिवसेना ने ढाई-ढाई साल का फॉर्मूला दिया है।

अमित शाह तैयार नहीं
बताया जा रहा है कि शिवसेना के फॉर्मूले से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह सहमत नहीं हैं, सूत्रों का दावा है कि अमित शाह ने शिवसेना से कहा था कि दोनों पार्टियों में बराबर जिम्मेदारियां बांटी जाएगी, लेकिन सीएम का पद बीजेपी के पास ही रहेगा, शिवसेना के एक नेता ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है, जल्द ही मामला उद्धव ठाकरे जी और अमित शाह जी बैठकर सुलझा लेंगे।

जदयू भी नाराज
दूसरी ओर बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी बीजेपी से नाराज चल रहे हैं, सिर्फ एक मंत्री पद दिये जाने से नाराज नीतीश ने मोदी के कैबिनेट में शामिल नहीं होने का फैसला लिया, हालांकि उन्होने कहा कि वो एनडीए के साथ हैं और आगे भी पूरी मजबूती से खड़ रहेंगे। नीतीश ने कहा कि केन्द्र में बीजेपी के पास पूर्ण बहुमत की सरकार है, उन्हें सरकार चलाने के लिये किसी सहयोगी की जरुरत नहीं है।

बिहार से बाहर एनडीए का हिस्सा नहीं
रविवार को पटना में जदयू राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया, जदयू बिहार से बाहर एनडीए का हिस्सा नहीं होगी, बैठक में हुए फैसले के मुताबिक नीतीश कुमार ने बिहार के बाहर होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में अकेले ही लड़ने का ऐलान किया है, हाल ही में नीतीश ने अपने कैबिनेट का विस्तार किया, 8 नये मंत्रियों को शपथ दिलाया, लेकिन एक भी मंत्री बीजेपी के कोटे से शामिल नहीं किया।