टिकट नहीं मिला तो फूट-फूट कर रोने लगे लालू यादव के पीए और राजद नेता, जय तेजस्‍वी के लगाए नारे

टिकट ना मिलने की नाराजगी नेताओं में साफ देखी जा रही है, आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के पीए रहे विनोद श्रीवास्‍तव का टिकट भी इस बार कट गया, श्रीवास्‍तव मीडिया से बात करते हें फूट-फूट कर रो पड़े ।

New Delhi, Apr 15 : लोकसभा चुनाव 2019 में चंपारण से टिकट नहीं मिलने से नाराज राष्ट्रीय जनता दल नेता विनोद श्रीवास्तव फूट-फूटकर रोने लगे। विनोद श्रीवास्तव लालू यादव के पीए रह चुके हैं । नेता जी की सीट गठबंधन के नाम हो गई, जिस सीट की जुगत में श्रीवास्‍तव लंबे समय से थे वो गठबंधन के दूसरे दल रालोसपा के खाते में चली गई । नेता जी अब पीछे से हाथ मलते रह गए । मीडिया से बात की तो दर्द फूट पड़ा और रो पड़े ।

विनोद श्रीवास्‍तव ने कहा – मेरे साथ अन्‍याय हुआ
लालू यादव के पूर्व पीए विनोद श्रीवास्‍तव ने उन्‍होने रो-रोकर कहा – “मुझे लालू यादव ने नेता बनायाहै। राबड़ी देवी ने नेता बनाया है। पूरे चंपारण को मैंने सींचा है। चंपारण का हत्या हुआ है। लोगों ने मेरी हत्या की है। चंपारणवासियों की मैंने हमेशा सेवा की। मैं अंतिम क्षण तक लालू यादव, राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव के साथ रहूंगा। मेरे साथ अन्याय हुआ है। जिसने भी मेरे साथ साजिश के तहत अन्याय किया है, उसने अच्छा नहीं किया है। जय राजद, जय लालू, जय तेजस्वी।”

रालोसपा के खाते में गई है सीट
आपको बता दें लोकसभा चुनाव के चलते बिहार में एनडीए के खिलाफ महागठबंधन तेयार हुआ है । इसमें राजद के साथ कांग्रेस, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा, रालोसपा, वीआईपी पार्टी शामिल है । सीट बंटवारे के तहत पूर्वी चंपारण सीट रालोसपा के खाते में चली गई । रालोसपा की ओर से चंपारण से कांग्रेस प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह के बेटे आकाश कुमार को उम्‍मीदवार बनाया गया है । आरजेडी नेता विनोद श्रीवास्तव काफी समय से इस सीट से चुनाव लड़ने की कोशिश में थे । लेकिन जब सीट महागठबंधन के खाते में चली गई तो वो टूट गए और रो पड़े ।

टिकट बंटवारे से नाखुश हैं नेता
सिर्फ विनोद श्रीवास्‍तव ही नहीं सीट शेयरिंग से कई नेता नाराज बताए जा रहे हैं । राजद का एक धड़ा असंतोष से घिरा हुआ है । इसी बात के मद्देनजर जिला इकाई की एक बैठक मोतिहारी में हुई । बैठक के दौरान ही विनोद श्रीवास्‍तव अपनी व्यथा सुनाते हुए रोने लगे । वहां मौजूद लोगों ने उन्हें चुप करवाया । आपको बता दें कि बिहार 40 लोकसभा सीटों वाला एक बड़ा प्रदेश है, यहां 7 चरणों में मतदान होने हैं । पूर्वी चंपारण में 12 मई को मतदान होना है।

ये नेता भी है नाराज
वहीं पार्टी के नेता और पूर्व में केंद्रीय मंत्री रह चुके मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने भी टिकट ना मिलने पर नाराजगी जताई । राजद से टिकट ना मिलने पर मधुबनी लोकसभा सीट से उन्‍होने महागठबंधन उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी । फातमी ने पार्टी को अल्टीमेटम भी दिया है । फातमी के मुताबिक वो आने वाली 18 अप्रैल तक इंतजार करेंगे, अगर कोई फैसला नहीं लिया जाता तो वो मधुबनी सीट से नामांकन पत्र दाखिल कर देंगे ।