विराट-गंभीर तारीफ करते थक नहीं रहे थे, रोहित के कप्तान बनते ही हो गई टीम से इस क्रिकेटर की छुट्टी

नवदीप सैनी ने टीम इंडिया के लिये 5 टी-20 मैच खेले हैं, जिसमें 6 विकेट हासिल किये हैं, इसमें तीन विकेट तो उन्होने डेब्यू मैच में ही ले लिये थे।

New Delhi, Oct 26 : क्रिकेट की दुनिया में कब किस खिलाड़ी की किस्मत चमक जाए, और कब कौन गुमनामी के अंधेरे में खो जाए, कुछ भी कहा नहीं जा सकता, अचानक ही कोई सुर्खियों में आ जाता है, तो कोई गुमनामी में चला जाता है,टीम इंडिया के नये तेज गेंदबाज नवदीप सैनी के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है, युवा तेज गेंदबाज के मुरीदों में कप्तान विराट कोहली से लेकर पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर तक शामिल हैं, यहां तक कि सैनी को गंभीर की खोज ही कहा जाता है, विराट ने भी वेस्टइंडीज दौरे पर उनकी जमकर प्रशंसा की थी।

गंभीर की खोज
नवदीप सैनी ने टीम इंडिया के लिये 5 टी-20 मैच खेले हैं, जिसमें 6 विकेट हासिल किये हैं, इसमें तीन विकेट तो उन्होने डेब्यू मैच में ही ले लिये थे, गौतम गंभीर ने महज 15 मिनट की गेंदबाजी देखकर ही इतने इंप्रेस हो गये, कि उन्हें दिल्ली रणजी टीम में शामिल कराने के लिये चयनकर्ताओं से भिड़ गये थे। गौती ने कहा था कि सैनी शानदार गेंदबाज हैं, उनके जैसे गेंदबाज कम ही देखने को मिलते हैं, जो लगातार इस रफ्तार और लाइन लेंथ से गेंदबाजी कर सके, हालांकि अब सैनी को बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 सीरीज से बाहर रखा गया है, वो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज का हिस्सा थे, उन्होने इस सीरीज में 2 मैचों में 1 विकेट लिये थे, 1 मैच बारिश की वजह से धुल गया था।

विराट ने की थी जमकर तारीफ
सैनी ने विश्वकप 2019 के बाद वेस्टइंडीज दौरे पर डेब्यू किया था, उन्होने पहले ही मुकाबले में 17 रन देकर 3 विकेट लिये थे, इस प्रदर्शन के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि वो उभरते हुए शानदार गेंदबाज हैं, वो एक ऐसे गेंदबाज हैं, जो 150 किमी की रफ्तार से लगातार गेंदबाजी कर सकते हैं, ऐसे कम ही गेंदबाज हैं, जो इस गति से लगातार गेंदबाजी करता हो और फिट हो, उनमें कुछ हासिल करने की भूख झलकती है, उम्मीद है कि यहां से वो खुद को आगे ले जाएंगे।

ड्राइवर के बेटे हैं नवदीप
नवंबर 1992 में सरकारी बस ड्राइवर के घर पैदा हुए नवदीप सैनी के घर खाने-पीने की कोई कमी नहीं थी, लेकिन हालात इतने भी मजबूत नहीं थे, कि परिवार अपने बेटे की हर इच्छा को पूरी कर सके, परिवार में क्रिकेट एकेडमी की फीस भरने तक को पैसे नहीं थे, जिसके बाद नवदीप ने टेनिस बॉल से क्रिकेट शुरु किया, और फिर धीरे-धीरे आगे बढते गये।

गंभीर ने दिया मौका
गौतम गंभीर ने नवदीप सैनी की प्रतिभा को पहचाना, उन्होने उन्हें नेट पर गेंदबाजी करते देखा था, जिसके बाद उन्होने दिल्ली रणजी टीम के चयनकर्ताओं से गुजारिश की, कि उन्हें भी टीम में शामिल करे, लेकिन हरियाणा का होने की वजह से उन्हें टीम में शामिल नहीं किया जा रहा था, जिसके बाद गंभीर चयनकर्ताओं से भिड़ गये, फिर सैनी को दिल्ली रणजी टीम में जगह मिली, उसके बाद उन्होने पलटकर नहीं देखा, पहले ही रणजी सीजन में उन्होने 34 विकेट हासिल किये, जिसके बाद उनके लिये और कई दरवाजे खुल गये।