BJP ने निकाल लिया शिवसेना का तोड़, फडणवीस नहीं अब ये होंगे CM, सरकार गठन को लेकर बड़ी खबर

महाराष्‍ट्र में सरकार गठन की समय सीमा समाप्‍त होने वाली है और राष्‍ट्रपति शासन लगने की संभावना बढ़ती जा रही है । इस बीच आई है एक सनसनीखेज खबर । आगे पढ़ें, लेटेस्‍ट अपडेट …

New Delhi, Nov 07: महाराष्ट्र में चुनाव नतीजे आए कई दिन हो गए हैं, लेकिन सरकार गठन का रासता साफ ही नहीं हो पा रहा है । बीजेपी और शिवसेना के बीच चुनाव नतीजों के बाद से शुरू हुई तकरार कम होने का नाम ही नहीं ले रही है । शिवसेना लगातार बयानबाजी कर रही है, चुनाव पहले के फॉर्मुले को याद दिला रही है, बीजेपी पर वादे से मुकरने का आरोप लगा रही है तो वहीं दूसरी और बीजेपी सरकार बनाने के लिए जरूरी हर जद्दोजहद कर रही है । अब खबर आ रही है बहुत ही बड़ी, सुगबुगाहट इस बात की है कि बहुत संभव है बीजेपी सत्‍ता की इस खींचतान में देवेंद्र फडणवीस को कुर्बान कर एक चहेते नाम पर मुहर लगा दे ।

इस नेता के नाम पर सबकी नजर
राजनीतिक जानकार अब ये कयास लगा रहे हैं कि फडणवीस की जगह केंद्रीय सड़क परिवह  न मंत्री नितिन गडकरी को बीजेपी सामने ला सकती है । साथ ही शिवसेना के गठबंधन में वापसी की भी जल्द से जल्द घोषणा हो सकती है । आपको बता दें फडणवीस व गडकरी दोनों ही नागपुर से है । कैमरे के सामने दोनों में मित्रतापूर्ण संबंध दिखते हों लेकिन बावजूद इसके दोनों के बीच मतभेद जाहिर हैं। बताया जा रहा है कि इस बड़े फेरबदल के पीछे आरएसएस सक्रिय हुआ है ।

आरएसएस ने सुझाया है रास्‍ता
सूत्रों के हवाले से खबर है कि ये नया फेरबदल आरएसएस का सुझाया हुआ है । राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ ने साफ तौर पर गडकरी को राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में सामने लाने का विचार प्रस्‍तावित किया है । अब इस नए नाम के साथ बीजेपी शिवसेना को मना सकती है और उद्धव की मुख्यमंत्री पद की मांग को कमजोर करने का भी मौका पा सकती है । जग जाहिर है कि गडकरी और संघ के बीच कितने मजबूत संबंध हैं । उन्‍हें राजनीति में लाने का श्रेय भी भगवत को जाता है ।

फड़नवीस पसंद नहीं
खबर ये भी है कि शिवसेना मुख्‍यमंत्री देवेन्‍द्र फड़नवीस के कड़े रुख से कभी खुश नहीं रही । उद्धव और फड़नवीस के बीच भी सब कुछ अनमना ही रहता है । ऐसे में गडकरी का नाम सामने आना शिवसेना के लिए भी राहतभरा हो सकता है और बहुत संभव है कि वो बीजेपी के अनुसार सरकार गठन को राजी हो जाए । खबर ये भी है कि आरएसएस की ओर से शिवसेना को आश्‍वस्‍त किया गया है कि सब ठीक होगा, सौहार्दपूर्वक होगा । इससे पहले शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने भागवत को पत्र लिखकर गडकरी को सामने लाने को कहा था। तिवारी ने कहा था कि सिर्फ गडकरी ही गतिरोध को ‘दो घंटे’ में खत्म कर सकते हैं।

Read Also : महाराष्ट्र में तैयार है बीजेपी का प्लान बी